एनसीयूआई मेरी जागीर नहीं है: चंद्रपाल

चंद्रपाल सिंह यादव के बाद शीर्ष सहकारी संस्था एनसीयूआई का अध्यक्ष कौन होगा यह सहकारी क्षेत्र के गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है। एनसीयूआई उप-नियमों के हिसाब से अध्यक्ष तीसरे कार्यकाल के लिए चुनाव नहीं लड़ सकता है।

“एनसीयूआई मेरी व्यक्तिगत जागीर नहीं है और मुझे खुशी होगी कि मेैं अपनी कुर्सी का कार्यभार किसी उपयुक्त उम्मीदवार को दूंगा; मैं खुश हूं कि मेरे सबसे अच्छे संबंध है, हालांकि अभी दो साल से अधिक का समय बचा हुआ है, चंद्रपाल ने भारतीय सहकारिता से कहा जो देश की शीर्ष सहकारी संस्था एनसीयूआई के अध्यक्ष हैं।

इन वर्षों में मुझे सभी लोगों का समर्थन मिला है और बहुत कुछ सीखने को भी मिला है; एनसीयूआई न केवल भारत में बल्कि दुनिया में प्रतिष्ठित है। हम विश्व स्तर पर सबसे मजबूत सहकारी आंदोलन का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, यादव ने कहा।

लेकिन क्या आप इस सहकारी संस्था के लिए किसी उपयुक्त उम्मीदवार के नाम का चयन नहीं करेंगे? इस संस्था को चलाने के लिए सब को साथ लेकर चलना होता है, लेकिन सही नाम का चयन करना बहुत मुश्किल होता है, यादव ने कहा।

चंद्रपाल ने हालांकि आश्वासन दिया कि जब तक वे योग्य उम्मीदवार को नहीं ढूंढ लेते तब तक वे शांत नहीं बैठेंगे। समय की प्रतिक्षा करें मैं सहकारी आंदोलन से जुड़े लोगों को निराशा नहीं करूंगा, उन्होंने कहा।

हालांकि, उन्होंने भारतीय सहकारिता से योग्य उम्मीदवार का नाम बताने से इनकार किया और कहा कि गवर्निंग काउंसिल में कई सहकारी नेता है जो इस पद के लिए योग्य है।

यहां तब कि पिछले चुनाव में मैं उम्मीदवार नहीं था और मैंने खुद बिजेन्द्र सिंह का नाम प्रस्तावित किया था, चंद्रपाल ने याद करते हुए कहा। जब एक वरिष्ठ सहकारी नेता वी.पी.सिंह को उम्मीदवार ढूंढने के लिए जीसी सदस्यों से बात करने को कहा गया तो अचानक मेरे नाम ऊपर आया, यादव ने पिछली बातों को याद करते हुए कहा।

“वी.पी.सिंह ने मुझे बताया कि जीसी के सदस्य चाहते हैं कि आप संगठन का नेतृत्व करो। मेरे पास और कोई विकल्प नहीं था और यही कारण था कि मैं अध्यक्ष चुना गया”, यादव ने कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Twitter