News

ताजा खबरें

  • सुमुल: आदिवासी क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधाएं देने का इरादा

    0
    सूरत स्थित सुमुल डेयरी के सीईओ ने सरकार से 2 रुपये प्रति लीटर से अधिक की सब्सिडी देने की मांग की है क्योंकि डेयरी सहकारी संस्था आदिवासी क्षेत्रों में कम कर रही है जहां अन्य कंपनियां जाने से हिचकती हैं। सुमुल डेयरी, अमूल के ब्रांड नाम से अपने उत्पादों का वितरण करती है। सूरत में 80 प्रतिशत दूध की आपूर्ति के साथ-साथ सुमुल आदिवासी क्षेत्रों में मेडिकल अस्पताल खोलने की भी योजना बना रही है ताकि इन क्...
    आगे पढ़े
  • यूपी: जनवरी चुनाव की तैयारियां शुरू

    0
    उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव में जीत से उत्साहित, भाजपा अब सहकारी निकायों की सत्ता हासिल करने में सक्रिय लगा रही है जिनका चुनाव अगले साल जनवरी में होना तय है। सहकारी समितियों के चुनावों के लिए रणनीति तैयार करने के लिए रविवार को राज्य इकाई के पदाधिकारियों की बैठक बुलाई गई है। रविवार की बैठक का मुख्य एजेंडा सहकारी चुनावों के लिए रणनीतियों को तैयार करना होगा, राज्य भाजपा के महासचिव विजय बहादुर पाठ...
    आगे पढ़े
  • यूपी सहकारी अधिनियम संशोधन: यादव ने सरकार की आलोचना की

    0
    भारतीय राष्ट्रीय सहकारी संघ के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की राजनीति से जुड़े चंद्रपाल सिंह यादव ने योगी सरकार की  उत्तर प्रदेश सहकारिता अधिनियम में संशोधन पर पहल कि निंदा की है। अधिनियम में संशोधन से सहकारी समितियों में निर्वाचित प्रतिनिधियों के बजाए बाबूओं के हाथों में सहकारी संस्था की सत्ता चली जाएगी। “यह सहकारी सिद्धांतों के बिल्कुल खिलाफ है,  यादव ने कहा। सत्ता हासिल करने के लिए लोकतांत्...
    आगे पढ़े
More :

Featured

News Snippets

  • शीर्ष बैंक ने बांटी पीओएस मशीन

    1
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना भारत को कैशलेस अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी बैंक के अध्यक्ष अशोक बजाज ने बैंक के चालू खाताधारकों को एम-पॉश मशीन का वितरण किया। विमुद्रीकरण के समय कई सहकारी बैंकों पर आयकर विभाग ने पुराने नोटों को स्वीकार करने में अनियमितताओं में शामिल के चलते छापा मारा था। हालांकि, अतीत की गलती को सुधारने के तौर पर सहकारी बैंक भारत को कैशलेस अर्थव्यवस्थ...
    आगे पढ़े
  • जब गडकरी-पाटिल ने दिखाया सहकारिता की शक्ति

    0
    क्या होता है जब सरकार सहकारी क्षेत्र पर विश्वास रखती है, इसका पता महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र की घटना से किया जा सकता है। महा ऑरेंज नामक कंपनी की दो प्रसंस्करण इकाई मोर्शी और करणजा जो काफी वक्त से बंद थी उसे एक बार फिर सक्षम बनाया गया है। अगर केंद्र में नितिन गडकरी थे तो राज्य में चंद्रकांत पाटिल थे, जिन्होंने ऑरेंज उत्पादकों के हित में सहकारी संस्था को पुनर्जिवित करने में अहम भूमिका निभाई। उन्ह...
    आगे पढ़े
  • नाज़ है हमें गुजरात सहकारी आंदोलन पर: सीएम

    0
    कई सहकारी नेताओं ने गुजरात राज्य सहकारी संघ द्वारा आयोजित रविवार को गांधीनगर में एक मेगा सहकारी सम्मेलन में शिरकत की। सम्मेलन का उद्घाटन राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने किया। इस अवसर पर रूपानी ने कहा कि हमें गुजरात के सहकारी आंदोलन पर नाज़ है और यहां कई राष्ट्रीय स्तर की सहकारी संस्थाओं के नेता मौजूद हैं जिन्होंने इसे मजबूत बनाने में अपना योगदान दिया है। उन्होंने दिलीपभाई संघानी, ज्योतिंद्र ...
    आगे पढ़े
More :

कॉफी शॉप

  • पंजाब में साझा सामुदायिक ट्रैक्टर

    0
    पंजाब सरकार ने फैसला किया है कि अगले साल कुछ सौ किसानों को समुदायिक ट्रैक्टर-ट्रेलर दिये जाएँगे। इन्हे केवल पांच एकड़ से कम जमीन वाले किसानों के बीच साझा किया जाएगा। वर्तमान में पंजाब के गांवों में ग्राम स्तर सहकारी समितियों द्वारा कृषि मशीनरी सेवा केंद्र द्वारा समुदाय ट्रैक्टर और अन्य आवश्यक औजार किसानों को उपलब्ध कराया जाता है। इससे छोटे जोत वाले किसानों को महंगे कृषि तकनीक को खरीदने और क...
    आगे पढ़े
  • पाठकों की पसंद के समक्ष indiancooperative.com नतमस्तक

    0
    indiancooperative.com ने कुछ समय पहले अपना होम पेज बदल दिया था. लेकिन पाठकों की भारी मांग के चलते इसे अपने पुराने कलेव्रर को वापस लाना पडा. हमें आशा है अब पाठक और प्रशंसक संतुष्ट होंगे. ...
    आगे पढ़े
  • सुधा ने अमूल को शिक्षा के क्षेत्र में पछाडा

    0
    बिहार राज्य डेयरी सहकारी संघ (Comfed) में भ्रष्टाचार के आरोपों पर एक उग्र विवाद चल रहा है. यहां भी एक अच्छी खबर है. देश भर में आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए जल्द ही उनके भूगोल पाठ्य पुस्तक में डेयरी सहकारी के बारे में पाठ शुरू होगा. यहां तक ​​कि प्रसिद्ध ब्रांड अमूल अब तक यह सम्मान जुटाने में नाकाम रही है. प्रकाशन के लिए दूध सहकारी समितियों के क्षेत्र में एक बड़ी सफलता की कहानी - एनसीईआरटी ने बि...
    आगे पढ़े
  • नैफकब पुनः व्यापार में-सहकारी मेगा-शो की तैयारी

    0
    शहरी सहकारी बैंकों का शीर्ष निकाय NAFCUB के बोर्ड की बैठक नई दिल्ली में एनसीयूआई परिसर में पिछले शनिवार को हुई और साल के अंत में एक बड़ा सहकारी शो का आयोजन करने का निर्णय लिया गया. अध्यक्ष श्री मुकुंद अभ्यंकर ने कहा कि सम्मेलन में बड़ी संख्या में लोगों के भाग लेने की उम्मीद है जहां अपनी उपलब्धियों के साथ ही क्षेत्र के समक्ष चुनौतियों की चर्चा की जाएगी. पूर्व अध्यक्ष श्री एच.के. पाटिल, जो अभी...
    आगे पढ़े
More :

सहकारिता से जुड़े सवाल

  • सहकारी बैंक शुरू करना

    2
    गणेश एम. कोल्हे हम सहकारी बैंक शुरू करना चाहते है, हमारी मदद किजिए हम आपके जवाब की प्रतीक्षा कर रहे हैं। आई सी नाईक भारतीय रिजर्व बैंक ने सहकारी बैंकों के लिए नए लाइसेंस जारी नही कर रहे है, तो इंतज़ार किजिए। सहकारी बैंक के कामकाज के साथ आरबीआई के अनुभव अत्यधिक असंतोषजनक है। इसलिए कम से कम अभी तो इस व्यवसाय प्रवेश करने की संभावना आपके लिए मंद हैं।...
    आगे पढ़े
  • सीएचएस: एसोसिएट सदस्यता समाप्त हो

    0
    अशोक सिंघल एसोसिएट सदस्यता के बारे में एक बड़ा भ्रम है। इंटरनेट पर अलग-अलग राय उपलब्ध हैं। धारा 2 एमसीएस अधिनियम 1960 की उप धारा (19) (बी) के अनुसार "एसोसिएट सदस्य" का मतलब संयुक्त रूप से अन्य लोगों के साथ एक समिति का एक हिस्सा होता है लेकिन जिसके नाम शेयर प्रमाण पत्र होता वह आगे नहीं होता है। एसोसिएट सदस्य सह सेशन हाउसिंग सोसाइटी के फ्लैट के संयुक्त मालिक और संपत्ति का गैर संयुक्त धारक ह...
    आगे पढ़े
  • 97वें सहकारिता संशोधन पर स्पष्टीकरण

    2
    आर.मुरलीधरन, 97 वीं संवैधानिक संशोधन अधिनियम, 2011 के कार्यान्वयन पर मेरा एक प्रश्न है। हमारे राज्य अधिनियम (पुडुचेरी सहकारी सोसायटी अधिनियम) 97वें सीएए के तर्ज़ पर संशोधित किया जाना अभी बाकी है और कार्य प्रगति पर है। Art.243ZT के आपरेशन के द्वारा संविधान में संशोधन करने के लिए असंगत राज्य अधिनियम के प्रावधानों को खत्म कर देना चाहिए और 97वें सीएए के प्रावधानों 15 फ़रवरी 2012 के बाद से लागू हो...
    आगे पढ़े
  • सहकारिता में एक गैर सदस्य जनहित याचिका दायर कर सकता हैं?

    0
    संजीव तनेजा महोदय, मैं उत्तर प्रदेश में किसी भी सहकारी हाउसिंग सोसायटी के खिलाफ जनहित याचिका दायर कर सकता हूँ, अगर किसी गैर सदस्य के पास धोखाधड़ी या सोसायटी में हो रही अनियमितताओं के पर्याप्त सबूत है तो क्या वह ऐसा कर सकते है। आई सी नाईक मुझे ऐसा नहीं लगता, एक सहकारी समिति में कोई सार्वजनिक हित शामिल नहीं होता है। एक सदस्य रजिस्ट्रार को शिकायत दर्ज करवा सकता हैं। ...
    आगे पढ़े
More :

Share This:

Facebook

Twitter