ताजा खबरेंविशेष

सहकारी बैंकों को रिजर्व बैंक के अधीन रखने के लिये अध्यादेश

यूसीबी को आरबीआई के अधीन लाने के लिए बैंकिंग विनियमन अधिनियम में संशोधन करने का निर्णय मंत्रिमंडल ने फरवरी में लिया था लेकिन कोविड-19 के कारण यह संसद में पारित नहीं हो सका था। इस बीच गत बुधवार को हुई मोदी कैबिनेट की मीटिंग में सहकारी बैंकों को आरबीआई के अधीन लाने के लिये अध्यादेश जारी करने को मंजूरी दी गई है।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक प्रेस वार्ता के दौरान घोषणा की, “बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में सभी यूसीबी को एक अध्यादेश के माध्यम से भारतीय रिजर्व बैंक के अधीन लाने का निर्णय लिया गया”।

अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने की तारीख से ही देश के 1,540 यूसीबी भारतीय रिजर्व बैंक के अधीन आ जाएँगे।

हालांकि इस प्रगति से सहकारी बैंकिंग क्षेत्र से जुड़े नेता काफी खुश हैं। नेफकॉबसहकार भारती, सारस्वत बैंक के अध्यक्ष सहित कई सहकारी संगठनों ने पूर्व में इस विचार का समर्थन किया था।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सहकारी बैंकों को आरबीआई की निगरानी में लाने का फैसला इन बैंकों के 8.6 करोड़ से अधिक जमाकर्ताओं को आश्वासन देगा कि 4.84 लाख करोड़ रुपये तक उनकी जमा राशि सुरक्षित रहेगी।

अपने बजट भाषण के दौरानवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उल्लेख किया था कि सहकारी बैंकों को आरबीआई की निगरानी के दायरे में लाया जाएगा। हालाँकिबैंकिंग विनियमन (संशोधन) विधेयक, 2020 संसद के बजट सत्र में पारित नहीं हो सकाक्योंकि सत्र को कोविद-19 महामारी के कारण जल्द समाप्त करना पड़ा।

संशोधन से केंद्रीय रजिस्ट्रार की भूमिका समाप्त नहीं होगी। उनके ऊपर यूसीबी के पंजीकरण, आदि की जिम्मेदारी होगी।

यद्यपि इस संशोधन के कारण को-ऑप बैंकों की सामान्य भर्ती प्रक्रिया में कोई समस्या नहीं होगीशीर्ष प्रबंधन (सीईओ) का चयन आरबीआई द्वारा अनुमोदित पैनल द्वारा किया जाएगा। आरबीआई के पास सीईओ को वापस बुलाने का भी अधिकार होगा।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यूसीबी के लिए लेखा परीक्षकों के पैनल पर निर्णय आरबीआई करेगा। इस तरह का पैनल स्पष्ट रूप से आकार और व्यवसाय के आधार पर बैंकों की विभिन्न श्रेणियों के लिए अलग-अलग होंगे। मराठे ने स्पष्ट किया, “बड़े यूसीबी, जैसे – सारस्वत बैंक के लिए उपयुक्त ऑडिटर्स का एक पैनल अन्य छोटे यूसीबी के लिए उपयोगी नहीं होगा

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close