ताजा खबरेंविशेष

एमएससी बैंक का एनपीए शून्य; कमाया 325 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ

जब अन्य सहकारी बैंक कोविड-19 के प्रकोप से जूझ रहे हैं तब महाराष्ट्र राज्य सहकारी (एमएससीबैंक अपने शुद्ध एनपीए को 0% करने में सफल रहा और वित्त वर्ष 2019-20 में 325 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया, जो बैंक के इतिहास में अब तक का सर्वाधिक है।

एमएससी बैंक के प्रशासनिक बोर्ड के अध्यक्ष विद्याधर अनास्कर ने कहा, “109 वर्षों के इतिहास में पहली बार, एमएससी ने 31 मार्च, 2020 की समाप्ति में कई रिकॉर्डों को पार करने में सफल रहा है। बैंक का कुल कारोबार 35,439 करोड़ रुपये से बढ़कर वित्त वर्ष 2019-20 में 41,666 करोड़ रुपये हो गया है

उन्होंने आगे कहा कि वित्त वर्ष 2019-2020 में ऋण और अग्रिम 19,600 करोड़ रुपये से बढ़कर 20,817 करोड़ रुपये हो गए और डिपॉजिट15,840 करोड़ से बढ़कर 20,849 करोड़ रुपये हो गया।

उल्लेखनीय है कि मई 2011 को आरबीआई ने बैंक के बोर्ड को सस्पेंड कर दिया था और बैंक की वित्तीय स्थिति में गिरावट के कारण बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर नियुक्त किया था। उस समय बैंक का घाटा 1096 करोड़ रुपये थालेकिन अब विद्याधर अनास्कर की अध्यक्षता में बैंक ने 325 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया जो बैंक के इतिहास में अब तक का सबसे अधिक है।

कोविड-19 के माहौल मेंबैंक ने “अत्मनिर्भर कर्ज योजना” की शुरुआत की हैजिसके तहत उधारकर्ताओं को 31 मार्च, 2020 तक उनके कुल बकाया ऋण का 25% एक वर्ष की छूट अवधि के साथ साल के लिए प्रदान किया जाएगा।

इसके अलावाबैंक को पिछले वर्षों से ऑडिट वर्ग ‘ से सम्मानित किया जाता रहा है और पिछले वर्षों से 10% लाभांश का भुगतान किया है। बैंक ने 9% की जगह 13.11% का सीआरएआर बनाए रखा है। 31 मार्च, 2018 को इक्विटी पर रिटर्न 8.44% से बढ़कर 31 मार्च, 2020 को 14.24% हो गया,  अनास्कर ने रेखांकित किया।

इक्विटी पर राष्ट्रीय औसत रिटर्न 6.26% है। 31 मार्च, 2018 तकप्रति कर्मचारी व्यापार 26 करोड़ रुपये थाजो 31 मार्च, 2020 तक बढ़कर 43 करोड़ रुपये हो गया। बैंक का अपना फंड 4,784 करोड़ रुपये के स्तर तक पहुंच गया हैजो किसी छोटे स्तर के राष्ट्रीयकृत बैंक के बराबर हैउन्होंने जोर दिया।

बैंक ने बीमार इकाइयों के लिए ऋण पुनर्गठन की भी घोषणा की है। बैंक राज्य में सभी सहकारी समितियों का संरक्षक होने के नातेजिला केंद्रीय बैंकोंशहरी सहकारिता बैंकप्राथमिक कृषि सहकारिताक्रेडिट सोसायटी, आदि के कर्मचारियों और सदस्यों को प्रशिक्षण प्रदान करके सहकारी समितियों को मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध है।

बैंक के विकास में योगदान देने वाले प्रमुख कारक हैं – बैंक ने अपने व्यवसाय को केवल जिला केंद्रीय बैंकों और चीनी कारखानों तक ही सीमित नहीं रखा हैबल्कि सहकारी साख समितियोंआवास समितियों और अन्य सहकारी समितियों के लिए नई ऋण योजनाएं भी पेश की हैं।

इसके अलावा बैंक ने सरकारी प्रतिभूतियों में काम करने के लिए यूसीबी को एक अलग मंच प्रदान किया है और आरटीजीएस और एनईएफटी लेनदेन के लिए एक पोर्टल भी उपलब्ध कराया है। बैंक ने सहकारी बैंकों को सीटीएस समाशोधन जैसी विभिन्न सुविधाएं प्रदान की हैं। वर्तमान मेंबैंक अपने कोर बैंकिंग सिस्टम, साइबर सिक्योरिटी प्लेटफॉर्म को भी अपग्रेड कर रहा है और सहकारी बैंकों को भी उतनी ही सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं।

इस बीचयूसीबी को उनके कठिन समय में आवश्यक सहायता प्रदान करते हुएबैंक ने 10 जनवरी, 2020 को आरबीआई के पास “रुपी को-ऑप बैंक लिमिटेड”पुणे और “सिटी को-ऑप बैंक लिमिटेड”, मुंबई के विलय का प्रस्ताव प्रस्तुत किया है।  आरबीआई की अनुमति के बाद, बैंक अपने क्रेडिट रिस्क को कम करने के लिए कृषि और कृषि आधारित व्यवसाय के साथ खुदरा व्यापार में प्रवेश करने की योजना बना रहा है।

नाबार्ड अधिनियम में हाल के संशोधनों के अनुसारएमएससी बैंक की भूमिका एमएसएमई क्षेत्र और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण हो गई है। अनास्कर ने कहा कि बैंक वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान सभी सदस्योंग्राहकोंशुभचिंतकों और कर्मचारियों के कारण कई रिकॉर्डों को पार करने में सफल रहा हैऔर मैं उन सभी का धन्यवाद करता हूँ।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close