ताजा खबरें

एनसीसीसी ने मछुआरों को किया प्रशिक्षित, डोरा ने भी लिया भाग

नई दिल्ली स्थित नेशनल सेंटर फॉर को-आपरेटिव मैनेजमेंट ने हाल ही में मत्स्य सहकारी समितियों के अध्यक्ष और निदेशकों के लिये तीन दिवसीय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का आयोजन किया। इस मौके पर फिश्कोफेड के अध्यक्ष टी प्रसाद राव डोरा भी उपस्थित थे।

प्रशिक्षण कार्यक्रम में तेलंगाना, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मणिपुर, असम के 36 प्रतिभागियों ने भाग लिया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य प्रतिभागियों की नेतृत्व गुणवत्ता विकसित करना था।

प्रतिभागियों को अन्य प्रतिभागियों के साथ बातचीत करने के लिए मंच भी प्रदान किया गया।

इस कार्यक्रम में प्रतिभागियों को विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षित किया गया और मत्स्य पालन क्षेत्र के लिए एक संक्षिप्त और केंद्रित प्रशिक्षण दस्तावेज तैयार किया गया।

कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए, डॉ वी. के. दुबे, निदेशक एनसीसीई ने कहा कि मछली पालन क्षेत्र गुणवत्ता वाले मछली भोजन उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

फिश्कोफेड के अध्यक्ष “टी प्रसाद राव डोरा” ने मत्स्य सहकारी समितियों को मार्गदर्शन दिया। प्रबंध निदेशक फिशकोफेड- बी. के. मिश्र  ने मछली पालन सहकारी समितियों के विकास में फिशकोफेड की भूमिका का अवलोकन प्रस्तुत किया।

एक सत्र में, विशेषज्ञों और अन्य लोगों ने मछली पालन के लिए मछुआ सहकारी समितियों और अभिनव तरीकों के लिए विभिन्न योजनाओं पर विस्तार से चर्चा की

समापन संबोधन देते हुए, डॉ वी.के. दुबे ने कहा कि प्रतिभागियों द्वारा प्राप्त ज्ञान को समितियों की बेहतरी के लिये उपयोग किया जा सकता है।

एनसीसीई के सहायक निदेशक प्रियांक सिंह ने कार्यक्रम का समन्वयन किया और सभी प्रतिभागियों ने कार्यक्रम की काफी सराहना की।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close