ताजा खबरें

सचिव का एनसीडीसी दौरा; एमडी ने परियोजना की दी जानकारी

भारत सरकार के पशुपालन और डेयरी विभाग के सचिव अतुल चतुर्वेदी ने गुरुवार को एनसीडीसी मुख्यालय का दौरा किया। इस मौके पर संस्था के एमडी संदीप नायक ने उनके समक्ष एक प्रस्तुति पेश की जिसमें उन्होंने बताया की एनसीडीसी कैसे पूर्वोत्तर के राज्य मेघालय के सहकारी आंदोलन को मजबूत बनाने में कड़ी मेहनत कर रही है।

राज्य के व्यापक विकास के उद्देश्य से मेघालय मिशन के बारे में बात करते हुए, नायक ने कहा कि इस मिशन के माध्यम से एनसीडीसी मेघालय में दुग्ध व्यवसाय को बढ़ावा देकर किसानों की आय में दोगुना करने का प्रयास कर रही है और इसके लिए राज्य सरकार को 204.71 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है।

नायक ने कहा कि उम्मीद है कि यह मिशन 4000 से अधिक लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करेगा और दूध उत्पादन पांच वर्षों में 70-80 हजार लीटर प्रति दिन हो जाएगा।

एनसीडीसी के मेघालय पिगरी मिशन पर बात करते हुए, नायक ने कहा कि इसका उद्देश्य न केवल पूर्वोत्तर क्षेत्र की मांगों को पूरा करना है बल्कि दक्षिण-पूर्व एशिया में निर्यात के लिए भी साफ-सुथरा पोर्क उत्पादन में मात्रात्मक वृद्धि करनी है। उन्होंने कहा कि मेघालय में पिगरी क्षेत्र के विकास के लिए एकीकृत परियोजना की लागत 220.50 करोड़ होगी।

“इस परियोजना से राज्य में 35,000 सुअर किसानों को फायदा होगा और 5000 बेरोजगार युवाओं को आजीविका मिलेगी। यह 300 पैक्स के सदस्यों को आय का नियमित स्रोत प्रदान करेगा”, उन्होंने कहा।

देश में डेयरी और संबंधित क्षेत्रों में एनसीडीसी की भूमिका का अवलोकन करते हुए, नायक ने बताया कि एनसीडीसी ने जनवरी 2020 तक डेयरी, पशुधन, कुक्कुट और सुअर के विकास के लिए 5788.63 करोड़ रुपये जारी किये हैं।

“पिछले पांच वर्षों में इन क्षेत्रों में लगी सहकारी समितियों के लगभग 36 लाख सदस्यों को एनसीडीसी की सहायता के माध्यम से लाभ हुआ है”, उन्होंने सचिव को सूचित किया।

नायक ने सचिव को एनसीडीसी द्वारा किए जा रहे अन्य कार्यों के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने सचिव को पिछले सप्ताह सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग के साथ जैविक उत्पादों के विपणन को बढ़ावा देने के बारे में जानकारी दी। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेले के सचिव को भी जानकारी दी जहां विभिन्न समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए थे। डेयरी क्षेत्र में तीन समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए, नायक ने रेखांकित किया।

इस मौके पर सचिव ने कहा, “मैंने देखा है कि सहकारी समितियों का अस्तित्व लगभग सभी क्षेत्रों में है और मैं एनसीडीसी से सुअर और बकरी के मांस के व्यापार में सहकारी समितियों को शामिल करने का आग्रह करता हूँ जिसकी उत्तर-पूर्वी राज्यों में भारी मांग है। वर्तमान में, सुअर का मांस पंजाब से आ रहा है, और कर्नाटक द्वारा आपूर्ति की जाने वाला मांस अच्छी गुणवत्ता का नहीं है”, उन्होंने कहा।

इस अवसर पर नायक द्वारा की गई प्रस्तुति में गहरी दिलचस्पी दिखाते हुए, सचिव ने विकासात्मक कार्यों को समझने के लिए कुछ प्रश्न पूछे, जिनका उत्तर एमडी ने बेबाकी से दिया।

प्रतिभागियों में से एक ने इस अवसर पर कहा कि एनसीडीसी उत्तर पूर्वी राज्यों में सहकारी आंदोलन के कायाकल्प का प्रयास कर रही है। विशेष रूप से उत्तर पूर्वी राज्यों के लिए पहल एनसीडीसी के लिए हमेशा सर्वोच्च प्राथमिकता है, उन्होंने संतोष के साथ नोट किया।

इस अवसर पर जे पी मीना – एनसीडीसी के पूर्व सचिव और वरिष्ठ सलाहकार, एनसीडीसी के कई वरिष्ठ अधिकारी और इसके प्रशिक्षण विंग “लीनाक” के कई अधिकारी उपस्थित थे।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close