ताजा खबरेंविशेष

पीएमसी : ईडी की त्वरित कार्रवाई के लिए अमित शाह से मिले मेहता

अर्बन कोऑपरेटिव बैंकों की शीर्ष संस्था नेफकॉब के अध्यक्ष ने हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की और उनसे पीएमसी बैंक मामले में हस्तक्षेप की मांग की।

नेफकॉब के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी और बैंकिंग विशेषज्ञ डी कृष्ण भी मेहता के साथ बैठक में उपस्थित थे। बैठक करीब डेढ़ घंटे तक चली। मेहता ने भारतीय सहकारिता से बातचीत में कहा कि, “मुझे पता है कि वह वित्त मंत्री नहीं हैं, लेकिन मुझे यह भी पता है कि वह एक सहकारी नेता हैं, जिन्हें माधवपुरा मर्केंटाइल बैंक को बचाने का अच्छा खासा अनुभव है, जो अतीत में इस तरह की स्थिति में घिर गया था।

मेहता का प्रमुख ध्यान पीएमसी बैंक में सामान्य बैंकिंग परिचालन को बहाल करने पर था। दरअसल, अशोध्य ऋणों की वसूली का मामला गंभीर बना हुआ है। ईडी ने डिफॉल्टर एचडीआईएल की संपत्ति को जब्त कर लिया है, लेकिन उन्हें बेचने में समय लग रहा है, मेहता ने रेखांकित किया।

“मंत्री से मिलने का हमारा उद्देश्य यह था उनसे ईडी को संपत्तियों की बिक्री की प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा करने में हस्तक्षेप करने की मांग करना। एक बार खो गया पैसा बैंक में वापस आ जाए तो, यहां तक कि आरबीआई को भी उसकी मूल स्थिति को बहाल करने में कोई आपत्ति नहीं होगी”, मेहता ने कहा जो सर्वोच्च निकाय नैफकब के अध्यक्ष हैं और सहकार भारती के संरक्षक भी हैं।

मेहता ने कहा कि हमने मंत्री के समक्ष कई सुझाव रखें जिसमें से एक यह था कि रिकवरी की प्रक्रिया जब तक चल रही है, तब तक के लिए डीआईसीजीसी पीएमसी बैंक को 2000 करोड़ रुपये दे। उन्होंने आगे कहा कि यह फंड पीएमसी बैंक की नेट-वर्थ को सकारात्मक बना देगा।

मंत्री से मिलने से पहले, मेहता ने गुरुद्वारा कमेटी के एक प्रतिनिधि मनमोहन सिंह से भी संपर्क किया और उनसे पीएमसी बैंक से 2-3 साल के लिए पैसे नहीं निकालने में उनका समर्थन मांगा। “मैं निश्चित नहीं हूँ लेकिन एक अनुमान के अनुसार गुरुद्वारों का पीएमसी बैंक में लगभग 800-900 करोड़ रुपये का निवेश है”, मेहता ने कहा कि वे सिंह की सकारात्मक प्रतिक्रिया पर खुशी है, जिन्होंने सभी से बात करने और बताने का वादा किया।

पीएमसी बैंक के मामले को सुलझाने के लिए नेफकॉब रात-दिन काम कर रहा है। पीएमसी बैंक के संस्थागत निवेशकों से नेता संपर्क कर रहे हैं और 2-3 साल तक बैंक से पैसा नहीं निकालने के लिए अपनी प्रतिबद्धता चाहते हैं, जैसा कि यूसीबी के नए प्रशासक भी चाहते हैं।

सहकारी क्षेत्र का पीएमसी बैंक में लगभग 500 करोड़ रुपये फंसे हुए हैं, जिनमें क्रेडिट को-ऑप, शहरी को-ऑप बैंक, को-ऑप हाउसिंग सोसायटी शामिल हैं। मेहता ने कहा, “मेरा एक अनुमान है कि संस्थागत निवेशकों द्वारा पीएमसी बैंक में लगभग 3500 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं और यदि वे सहयोग करते हैं, तो बैंक को फिर से कार्यशील बनाना मुश्किल नहीं होना चाहिए”, मेहता ने कहा।

सूत्रों का कहना है कि नेफकॉब एआरसीआईएल से संपर्क करने के बारे में विचार कर रहा है, जो अशोध्य ऋण खरीदता है और शुल्क लेकर क्लाइंट के लिए वसूली करता है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close