सहकारी सफलता की कहानियां

अंजारकंडी अर्बन को-ऑप बैंक ने अपने कारोबार को किया डायवर्सिफाई

अपने व्यवसाय में विविधता लाने वाले शहरी सहकारी बैंकों की संख्या देश में बहुत अधिक नहीं है। इस दिशा में केरल स्थित अंजारकंडी अर्बन कोऑपरेटिव बैंक ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

नई दिल्ली में “अंतर्राष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेले” के मौके पर बैंक के निदेशकों में से एक के सी एस नांबियार ने “भारतीयसहकारिता” को बताया कि बैंक ने अपने कारोबार को अन्य क्षेत्र में डायवर्सिफाई किया है। बैंक नारियल से बने उत्पाद जैसे वर्जिन नारियल तेलनारियल पाउडर और अन्य का कारोबार कर रहा है और उन्हें सहकारी ब्रांड के नाम से बेच रहा है।

“2016 में हमने एक नारियल प्रसंस्करण इकाई स्थापित की जिसका उद्घाटन केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने कन्नूर में किया था। ड्रिपर संयंत्र में 24 घंटे के भीतर प्रति दिन 50,000 नारियल को प्रोसेस करने की क्षमता है। 8 घंटे की एक शिफ्ट में प्रति दिन तेल उत्पादन क्षमता 5000 लीटर है”, नम्बियार ने कहा।

नारियल तेल को मालाबार क्षेत्र के स्थानीय किसानों से खरीदा जाता है। सहकारी द्वारा उत्पादित नारियल तेल बोतल और पाउच में उपलब्ध हैउन्होंने आगे विवरण साझा करते हुए कहा।

“इसके अलावाहम अपने उत्पादों को विदेशों में भी निर्यात करने की योजना बना रहे हैं। संयंत्र में 45 से अधिक श्रमिक कार्यरत हैं। हमारी कन्नूर में एचपी गैस एजेंसी और टेक्सटाइल शॉप भी हैंजिसकी कुल बिक्री लगभग करोड़ रुपये प्रति वर्ष है”।

“मेले के दौरान हमें बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिलीजो हमारे व्यापारिक अनुबंधों को बढ़ाने में हमारी मदद करेगी”नाम्बियार ने दावा किया।

बैंक की स्थापना 1914 में क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी के रूप में की गई थीजिसमें 250 करोड़ रुपये जमा थे। बैंक का नेट एनपीए 1.6 प्रतिशत है। 14000 से अधिक शेयरधारक बैंक से जुड़े हैं।

बैंक की केरल के कन्नूर जिले में 8 शाखाएं हैं और वित्तीय वर्ष 2018-19 में 65 लाख रुपये से अधिक का शुद्ध लाभ अर्जित किया

Tags
Show More
Back to top button
Close