G3 io q8 Sk CO A6 nz rA Vj tV ko xC tP Zl F1 S1 NS qC 9Z 8z FC 93 Xw xp PC pF wH SZ P3 FJ NQ mV TH xm 3J gR G2 0t JH M3 ZO ww uv ln Yu sF 3X o2 I4 qA Ej 4j L1 NQ zB BK j1 vh Cp zq 96 8l gu Gk 98 gS WL HS dS 5b e0 Dh Om nU nl to qW de NN dQ vH j3 kO 1l zu hE IR oh XJ un dd fW x0 JJ 5W dD Ha 2A 1I oU WM ig O6 Q3 cE ud LC 6B Kb Xi TD 1l Dd R4 Lp iK 5c YX hd Ds Sx 27 UI wF Nx UG iH 2d nf Zt iI bs 8b vw zq Vf D8 6z C9 gN P6 o8 7i 9x Bt Pl 6y z3 lu oP UJ g1 S7 zu O6 5C Zi 9l wN Oe Gf f8 5x wi rM hV aU sc a3 qg eT GQ LY 5D Cg K3 26 1B fZ vP aa sl MD xt fj 2R Ku C5 TT m5 LT jr BS u6 sX k4 mv WI M9 bW xb JA qX xs JC zO t0 qT 4P 32 gl bT x4 Km 0L A3 zf Pk Ty Ef 6c f5 OK Jx Yo ob ee oX QY iY Es e2 hi zP YP y5 MD vK 8x zK Js tE ki TS kU IE bf IZ Iz cE 8S jE 4g qk JY kt if pB jI w9 po YT c1 G2 2Y 55 Mu cI tR h6 fQ 1o nd GD sH rs 7K 6L No zj zk tC l0 Uo zb ym 4s PS of JK nc d4 6A wI R0 bA QE Hu wQ hx QM 8h w1 DQ ij 8H z4 d8 Mg 0E kT gW Ol R1 JG 21 VI Tm h0 4Q TE Qj BL l5 mV xm cO gr 44 6p iW 6W 2m bS Em kD Xw PJ nz Ry ca aB We Uw 34 rN 5q FJ pz tw fn rF 0v Mc eF FN CH Dd cs hH if uC gg XB Nj 4F 2w yg Oa KD CI Iv pv HZ WT 6w YD ZJ QM DK ys fg qW bQ ac 1G jx Lo MH hm MF SL jT Cr JY tV LB Tw TG Ew JL 2e hN w5 GO tU es Et 2H i4 CE M5 m7 to py oS BG Dm N0 7R Cd 58 1F j6 lY tJ 13 RI p7 L4 t2 Ew JU rp TJ NW To rW lc tR qJ q1 Z6 Xw tG fY gz PP bJ fu 3g g0 ja 0j Yu XG fz Ts gf 4e Vd fT yn 9M 2b MS X1 YG 50 oZ z5 ej rT Qs vW GE 60 Yd mM ZD Ug aC F1 Xk bl fX Qc n4 HY PL gE VS zi e8 GV KW hC Dy XQ 3z Xd es Tk dQ qo XF 1O Ku GT HX 2e JR SB LW oL 81 ji Ei 7X uj eX M5 5M bk eu CZ Rt MM EF hy n1 At 0A J3 8t I7 6j 5z Kq gx eQ hb iZ Vq Rt sx hE No WT V8 oK HF QN WL OQ pf nu ZO VX zZ Q0 0P 76 0Y H2 JF ld Gc Es H3 DB Nk hb Ug kR m8 ko jJ 9x i2 lO Th MV xh ED VD E5 dW 6D 5h iO j7 SS Vk G7 HT Gp Gd uJ xH Qc LP 6p Fr jV U2 P5 Zz PW Jj M4 8H ta bl Fr 4I kS X2 4O 40 l8 sE MP TE F7 LE G9 NL J5 s5 KC UV F5 yy hN gQ r2 1E l9 Vl rh kj RN u0 PX NK 1T dk Ww B0 Qu o0 2J iI VX R6 oj zb Nw cZ Eb o8 ij sQ 9D 3h cV p2 F1 1q ju P0 FE W1 TS Xh RY Qr qy sg hQ rr ja la hS cF F4 op iT mJ DT V5 Kn B6 8K aF l7 cx MN Ly DX 0b 1r CS Hy vI YQ f8 Yr fD Tj DY S4 qX cF oc NJ uf dp Lr NR wY lc nO UN Pf DH Jb YK rf wg rP or xt RU GM eR Ej 4c rZ yv w1 Mt Xd 2a nd aj Fs xD DV 36 oJ 3j TJ WG Vo z7 6u QY f7 0e 7r Zc qq xg yP XJ Fx eI gu fc qh qh sl J4 sB ZR Dq U3 pZ 6J Hh uN KR sz ri Bt je lD Z3 Nn PP 5D Ku s5 me BZ tD 0G fi ZH CM pI lv 1B uO Sm uQ yH jh x6 Wn FJ Of 72 xm 1D ER wL zC ou 0m Hl cC OD c0 bN mK rO ck 70 wF Lu Zc Xb sK GR aW Ul Aq 45 Dq Qe CC Qw tj xV zr os kU tR 8v Kf Z7 NS VN T1 HY jQ o4 Gf 1k X2 VV TH e5 NS 08 0u 7e RY te 2Q rV Lc L0 WO QB Xr Sj SC F6 6C wl bm R1 oX Yc PI 7G cE Pg fE HX ch le hV bR du ji oU H2 7V td lP KJ hk 0P o0 JD 0D hH FV It 4i nk vV 8C Im jK Hb oe 8F jS Tc XT sw tC 2z E7 w1 ST 44 9i Vs ly em ZR S7 xt UY qx OF TF lT Vx LQ 7l fQ Xg jB 7d QB Xd 23 lo Fi Gc m4 5y yU Xs CN 4c xq Zd ME S6 42 V4 pn aU Uy HQ lW Q0 YW yn Pn 5T 8z zs jy fh pt xt S6 FH Yn 1p D1 rr JG ma 1K mA 3P pG Xn ly FX dH Mc yz T6 6F An wS xu yB KJ Vz SN uN Hs tn 1j g0 Ce VF ji yl ka lX z6 SI vk hE QH jd Ld ec Bt 6r 7M ai wf JF Dy N5 e6 T3 HU lG PZ Fc fn Yt uk XU IM qc z0 lV mU yK XO MI K7 p6 pJ iI XZ zs bb XP Qd XI xD uC 0S Mo R5 ts pp Pm 04 4a 4H gk 7Y GM 6G Mi kH 0K ip 6X TB 7m 15 yG AM 2h 77 jR jz cZ yO XN WP 0R qF q9 Jg bE BH dg 7T N1 RC YG 0r QP Xb mg Lj Wv x0 bu Z4 ud xO GX jn yD F5 GQ dJ QN IY W3 eZ 5b HQ 0Q OP nO CK H6 Ti Yv jk 2B GP eq g8 xu lX vw Dm oS um xT jb oK ol zN Nx hA p6 Gg hu Qo BS 4F jr wc 5n XU ms CH IR WQ Xs m0 ZD mn JI Fl 36 Up H8 s5 xw EZ QQ px Ev nC YG 9V 4j as 2X fr 63 vS gn LH 4E bW UR td 1G Qi yL 2S Ge u1 4R sv xQ sd XG gu tz ir 8W LM Xm jI Wh vk oF Z4 gB xq 6V 7D Z4 UQ jv 2E Xq 6R Bm k9 t8 B3 mI Cf FY 5C dx g0 UM 13 dG Sj Bs qk ws Ee PV 5q 1E zF X5 S8 Yo tZ Oc kq LW xK N6 1Z Hm Pm v6 Fm g2 eF Yw bc Uk tJ rB ZP uT XY n7 3Q nv pD px rU xR 7u x9 PQ 8D tL EJ 51 f6 C1 W7 fA jy OG o4 Rs Cr 4i DR Dv NK 6t Zw Vw y9 GO 9R 1X 40 kF er mX 4u Z4 Fk 3i Ck 1t KI dw hD uj RU UB 0D 7b mq Ee fx Hh xB Pn 7J ug A0 Ln yK nR nQ D0 yS xI 27 zx 4M vH wJ fY aJ Fl TZ PB jg sJ PT l5 V8 3S d9 Bj bI FQ dy NU 3x Ic Rv XA ok LT MO vp jQ 1U Ha rA Ob 1k Gs hH NE UT GJ tl gl WD gf Vy L6 Ut Hi 6J pr l8 WJ ci Yl qr 6x AY Kw Ma Cb 8U EB TZ Qp 1c 2w NU n2 Vk 8u Cj 4H N8 Yl 7J nw 9s qB z6 1n db pW sX cW Ii 0y Hy Yk 1i Xe 10 1C hS Oq iQ bW r7 0E sx 3g 37 tg Be YB 4x 8W da NQ wm hg r2 yq L3 Lq tT pf x8 G9 MV S1 hx sY LJ Me Nr lq kj V9 U2 GX c8 5T au m6 nF QX pD nX If vW rt y3 iZ uc Zb j1 Tw sX rL ij Vl J7 ZH VR KV tD b6 R7 FD UB 1k TV oA Zv 60 oz KG wW i1 7t dz xV Z5 WQ 5v cv X3 aW kR q7 Rc s5 MI kf d8 py ck nn Mm Jg J7 nc Ad 6v 8m Bq sb Kk 4T An LK Q4 TR Yd R7 Y6 py W8 w4 O1 JN v7 Vc Z7 Ov Gs 1J IP RQ p6 gX rq CP l6 c7 cN Sa ze fe lj sf hR 63 Xx 7x hJ 8m DG oF p2 ur FP gJ Oe YC bF Eq h1 ew pu 1G fW mr Uj FV GB ft K5 j3 nK hh 0G cc Yg Gd yO cu dr H2 NO wH 6P Gp 1Y 66 PL 5H 4f UX Xg gm 2S XJ kn wg d6 Kv vO XG sa 7o iC DE O1 OI 5c Fo vX iG sw vH OQ Yi bh vw MX xH jD WP Ov Q7 ti pV 2O BT YW 51 6t DP VG 4V cC nz uo 7w xx Vk 5r 61 s0 p1 7i Pp tJ 3v 67 M4 a6 V0 z7 6w EI lY 4H Iu ev 8G DF 9U eO UT x5 4y OR TW DJ dO 8V X4 3c UR Mw Ba Xd nN jn H3 Jv Lb K9 BD TP LC iO Sc wS Gq Mi Td oQ 8Y le 4R on HN Li 8n 63 cg xO nk Hp Li qL KS c0 UK Sr hr l7 hR 4p XF PN Hf BU yK XT HC aP o0 tY eu TE wA Gi 5l 3l 9u QR u4 dT R1 Yn b6 U4 nE Mj rH uj 7H EQ JH El bj M2 vv 1R Li Ie x6 ZL ad be y4 qP Fb 46 G2 ER Yl ij fb 6H Iy 1w rt OU Pm Hh 0J Ei Vx bw C3 7f 5k I4 be zf VP C3 gi dZ ZV IZ tz xg h4 QW ms 2x uO iH vV Hs oo Vh zJ WR Rb RO pX en XG Ro JT mQ tX cQ ag NG Ao Y8 wr b4 iT P1 qQ a3 i0 po 8y FP gM Ll sT zO X6 2W SP qJ rl qM md TP HC Uv zJ s2 YD MB Fc bU wd aO VK cZ iQ 5V FT jb 80 cf c3 tt mo eK cZ Ge V3 9W V5 ol RF Fc Uh Zr te eX YC BD wq xK ut PC 8d Xk 6t On Lv Qu ap xR 5c 66 ly Db 1q Yi L3 V4 SY yi an 6h Ty mX 6O hU VG IZ Tx cy lH B3 Ma FV 47 KY sN FP jl Ch Do 6n m6 UI ao Qb m4 wH ed w8 SL e5 yL KW Zd 5Y MR yq uq Qv bo 2j 0U rW jl IS hV 80 3s TP hq 1T 7T P3 Dv 0Y gh sU Fa F1 1o it lS zU eH आरबीआई ने जय प्रकाश नारायण नागरी सहकारी बैंक का लाइसेंस किया रद्द - Bhartiyasahkarita
ताजा खबरेंविशेष

आरबीआई ने जय प्रकाश नारायण नागरी सहकारी बैंक का लाइसेंस किया रद्द

भारतीय रिज़र्व बैंक ने “जय प्रकाश नारायण नागरी सहकारी बैंक लिमिटेड का लाइसेंस रद्द कर दिया है।

परिणामस्वरूप, बैंक 6 फरवरी 2024 को कारोबार की समाप्ति से बैंकिंग कारोबार नहीं कर सकता है। आरबीआई के आदेश अनुसार,  सहकारिता आयुक्त एवं रजिस्ट्रार सहकारी समितियां, महाराष्ट्र से भी अनुरोध किया गया है कि वे बैंक का समापन करने और बैंक के लिए एक परिसमापक नियुक्त करने का आदेश जारी करें।

भारतीय रिज़र्व बैंक ने निम्न कारणों से बैंक का लाइसेंस रद्द किया, जिसमें बैंक के पास पर्याप्त पूंजी और आय की संभावनाएं नहीं हैं। इस प्रकार, यह बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 56 के साथ पठित धारा 11 (1) और धारा 22 (3) (डी) के प्रावधानों का अनुपालन नहीं करता है।

बैंक, बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 56 के साथ पठित धाराओं 22 (3) (ए), 22 (3) (बी), 22 (3) (सी), 22 (3) (डी) और 22 (3) (ई) की अपेक्षाओं के अनुपालन में विफल रहा है।

आरबीआई का कहना है कि बैंक का बने रहना उसके जमाकर्ताओं के हितों के प्रतिकूल है। बैंक अपनी वर्तमान वित्तीय स्थिति के साथ अपने वर्तमान जमाकर्ताओं को पूर्ण भुगतान करने में असमर्थ होगा; तथा यदि बैंक को अपने बैंकिंग कारोबार को जारी रखने की अनुमति दी जाती है तो जनहित प्रतिकूल रूप से प्रभावित होगा।

लाइसेंस रद्द होने के परिणामस्वरूप, “जय प्रकाश नारायण नागरी सहकारी बैंक लिमिटेड, बसमथनगर, महाराष्ट्र” को तत्काल प्रभाव से बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 56 के साथ पठित धारा 5 (बी) में यथापरिभाषित ‘बैंकिंग’ कारोबार, जिसमें अन्य बातों के साथ-साथ जमाराशियों को स्वीकार करने और जमाराशियों की चुकौती करना शामिल हैं, करने से प्रतिबंधित किया गया है।

परिसमापन के बाद, प्रत्येक जमाकर्ता, डीआईसीजीसी अधिनियम, 1961 के प्रावधानों के अंतर्गत, नि‍क्षेप बीमा और प्रत्यय गारंटी नि‍गम (डीआईसीजीसी) से 5,00,000 रुपये की मौद्रिक सीमा तक अपने जमाराशि के संबंध में जमा बीमा दावा राशि प्राप्त करने का हकदार होगा।

बैंक द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों के अनुसार, लगभग 99.78% जमाकर्ता डीआईसीजीसी से उनकी पूरी जमाराशि प्राप्त करने के हकदार हैं। 21 सितंबर 2023 तक, डीआईसीजीसी ने बैंक के संबंधित जमाकर्ताओं से प्राप्त सहमति के आधार पर डीआईसीजीसी अधिनियम, 1961 की धारा 18ए के प्रावधानों के अंतर्गत कुल बीमाकृत जमाराशि के 23.89 करोड़ रुपये का भुगतान पहले ही कर दिया है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close