एसवीसी बैंक ने पहला ब्राउन लेबल एटीएम का किया शुभारंभ

मंबुई स्थित शामराव विट्ठल कॉपरेटिव बैंक (एसवीसी बैंक) ने सहकारी बैंकिंग क्षेत्र के इतिहास में पहला ब्राउन लेबल एटीएम नेटवर्क का शुभारंभ किया है, बैंक द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह दावा किया गया।

एसवीसी बैंक ने राइटर सेफगार्ड प्राइवेट के साथ करार किया है। ब्राउन लेबल एटीएम, एटीएम के एक आउटसोर्स मॉडल को लागू करता है जो बैंक को अपने एटीएम की व्यापक पहुंच प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।

एसवीसी बैंक के रिटेल बैंकिंग हेड राकेश सिंह ने कहा,“अच्छी और लाभदायक सुविधाओं को शुरू करना हमारी इस साल की मुख्य रणनीति है जिससे हम कम लगत में अच्छा व्यापार कर पाएं। यह ब्राउन लेबल एटीएम नेटवर्क एसवीसी बैंक के सारे एटीएम को देखेगा ताकि ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं मिल सके और साथ ही साथ अपना बिजनेस बढ़ाने में हम सक्षम हो सकें।

“हमे 50 ब्राइन लेबल एटीएम लॉन्च करने की इस परियोजना से जुड़ने पर गर्व होता है और हम दूसरे चरण में बड़ी संख्या में एटीएम लॉन्च करेंगे”,  रिटेल बैंकिंग हेड ने कहा।

इस अवसर पर, राइटर सेफगार्ड के सीईओ सुनील अय्यर ने कहा कि, “एटीएम नेटवर्क आउयसोर्सिंग क्षेत्र में सहयोग करने के लिए राइटर कॉर्पोरेशन और एसवीसी कॉपरेटिव बैंक के लिए यह महत्वपूर्ण है।“

एसवीसी बैंक देश के सबसे पुराने कॉपरेटिव बैंकों में से एक है और यह साझेदारी से भारतीय बैंकिंग सेक्टर के प्रौद्योगिकी संचालित नेटवर्क बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी”, सीईओ ने कहा।

उन्होंने आगे कहा कि, किसी भी बैंक के लिए ग्राहक को उच्च सुविधा देने के लिए एटीएम अहम भूमिका अदा करता है। एसवीसी एटीएम उपयोगकर्ताओं के लिए बेजोड़ ग्राहक अनुभव सुनिश्ति करेगा।

कॉपरेटिव बैंक डिजिटल को बढ़ावा दे रहे हैं और नियंत्रित निवेश के साथ अपने ग्राहक की सुविधाओं को बढ़ाने के लिए अभिनव तरीकों का आविष्कार कर रहे हैं जो कि एक सराहनीय कदम है।

एसवीसी बैंक की स्थापना 1906 में हुई थी और वर्तमान में बैंक की 11 राज्यों में शाखाएं हैं। यह अकेला बैंक है जिसने 80 से अधिक सहकारी बैंकों को कोर बैंकिंग सोल्यूशन मुहैया कराया है।

बैंक का कुल कारोबार 25 हजार करोड़ रुपये के आसपास का है और वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक ने 132 करोड़ रुपये का लाभ अर्जित किया है। बैंक की 198 शाखाएं है और 2500 से अधिक इसके कर्मचारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Facebook

Twitter