“माफ करें, हमें कोई दिलचस्पी नहीं”: सारस्वत बैंक चेयरमैन

देश का सबसे बड़ा अर्बन कोऑपरेटिव बैंक सारस्वत कोऑपरेटिव बैंक ने आरबीआई द्वारा अर्बन कोऑपरेटिव बैंकों को स्मॉल फाइनेंस बैंक में रूपांतरण करने के ऑफर को लेने से मना कर दिया है।

सारस्वत कोऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष गौतम ठाकुर ने भारतीय सहकारिता से बातचीत में कहा कि, “60 हजार करोड़ रुपये वाले अर्बन कोऑपरेटिव बैंक को स्मॉल फाइनेंस बैंक में रूपांतरण करने की सोच हास्यास्पद होगी”। माफ करियेगा, हमें इसमें कोई दिलचस्पी नहीं है, उन्होंने आगे कहा।

हालांकि, ठाकुर ने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि सहकारी ढांचे में काम करना मुश्किल होता है। “वास्तव में देश में सहकारी बैंकिंग परिचालन में कई सीमाएं हैं जिसके चलते तरक्की करना आसान नहीं है लेकिन इसके बाद भी हम आगे बढ़ने में सक्षम है”, “ठाकुर ने अपनी संस्था के अंदरूनी मजबूती का हवाला देते हुए कहा।

सहकारी बैंकिंग में रुकावटों का जिक्र करते हुए सारस्वत बैंक के अध्यक्ष ने कहा कि, “हम 70 लाख रुपये से अधिक का होम लोन नहीं प्रदान कर सकते हैं और कई ऐसे व्यवसाय हैं जहां सहकारी बैंकों को प्रवेश करने से वंचित किया गया है”।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए हम स्मॉल फाइनेंस बैंक में रूपांतरित हो जाएंगे। जिस क्षेत्र में हमने 100 वर्ष पूरे किये हैं उस क्षेत्र को हम कैसे छोड़ सकते हैं, ठाकुर ने कहा। पाठकों को याद होगा कि सारस्वत बैंक वर्तमान में शताब्दी वर्ष पूरे होने का जश्न मना रहा है जिसमें ये एक आकर्षक टैग लाइन "सौ साल का जवान" का प्रयोग कर रहा है। 

सहकारिता के क्षेत्र में रुकावटों के बावजूद कई सहकारी संस्था अद्भुत व्यवसाय कर रही हैं, ठाकुर ने अमूल और इफको का हवाला देते हुए कहा। “मैं मानता हूं कि कई खराब सहकारी संस्थाएं हैं लेकिन कॉरपोरेट क्षेत्र में भी ऐसी कई कंपनियां जिनका प्रदर्शन निराशाजनक है”, सारस्वत बैंक के अध्यक्ष ने जोर देकर कहा।

सहकारी सिद्धांतों की तारीफ करते हुए सारस्वत बैंक के अध्यक्ष ने महसूस किया कि लाभ कामना कोई गलत बात नहीं है लेकिन सहकारिता और कॉर्पोरेट कंपनियों में फर्क इतना है कि सहकारी संस्था समाज के प्रति अपने दायित्व को निभाते हुए लाभ कमाती हैं। “हमें हमारे सहकारी संबंध पर गर्व है”, ठाकुर ने कहा।

ठाकुर ने यह भी कहा कि निजी संस्था होना कोई समझदार कदम नहीं हो सकता है। बैंकिंग लाइसेंस प्राप्त करने की होड़ में कॉरपोरेट सेक्टर बहुत जल्दी हम जैसों को निगल लेगी, उन्होंने जोड़ा। 

बता दें कि यह पूरी बहस भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक में अर्बन कोऑपरेटिव बैंकों को स्मॉल फाइनेंस बैंक में रूपांतरण करने पर आर.गांधी समिति की सिफारिशों पर मोहर लगाने के कारण हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Facebook

Twitter