बिहार: इफको किसान सम्मेलन में भारी भीड़

दुनिया की सबसे बड़ी उर्वरक सहकारी संस्था इफको ने बिहार में रविवार को 1200 से अधिक किसानों को मुफ्त में एनपीके का वितरण करके अपने किसान संपर्क अभियान को नया मोड़ दिया है। वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि 25 प्रतिशत उर्वरक की आवश्यकता को कम करने से मिट्टी का स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

इफको किसान सम्मेलन का आयोजन बिहार के मोतिहारी स्थित अरेराज में किया गया, जहां 2000 से अधिक किसान ने भाग लिया और उनकी भारी भीड़ को देखते हुए हमें तत्काल कुर्सियों की अतिरिक्त संख्या का प्रबंध करना पड़ा, इफको बिहार विपणन के प्रमुख अजय सिंह ने बताया।

मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने सम्मेलन के उद्घाटन के साथ-साथ इफको ई-बाजार का भी उद्घाटन किया। सिंह ने इस मौके पर मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई विभिन्न योजनाओं के बारे में किसानों को सूचित किया जिसमें मृदा-परीक्षण कार्ड, ई-नॉम, फसल बीमा और हाल ही में शुरू ई-हॉट शमिल थीं। उन्होंने अधिकारियों से योजनाएं के बारे में किसानों को प्रशिक्षित करने का अग्रह किया ताकि वे मोदी सरकार की पहल का लाभ ले सके।

किसानों को संबोधित करते हुए इफको के मार्केटिंग हेड योगेंन्द्र कुमार ने बताया कि पानी में घुलनशील उर्वरकों के उपयोग से मिट्टी के स्वास्थ्य और उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है। कुमार ने जैव-उर्वरक के बढ़ते उपयोग पर बल दिया और उनके नाइट्रोजन-निर्धारण क्षमता पर व्याख्या की।

पाठकों को याद होगा कि इफको वर्तमान में जैव उर्वरकों की बिक्री में अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम है और योगेन्द्र कुमार इसके ब्रांड एंबेसडर के रूप में उभर रहे है जो समय-समय पर इफको के सागरिका उत्पाद के साथ अन्य उत्पादों के बारे में किसानों को जानकारी देते हैं।

देश में मिट्टी की गुणवत्ता में हो रही गिरावट के मुद्दे पर चिंता जताते हुए इफको एमडी ने भी मिट्टी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के महत्व के बारे में ट्वीट किया।अंग्रेजी में लिखे ट्वीट में उन्होंने कहा “क्या आपको पता है कि मिट्टी 1 सेंटीमीटर बनाने के लिए हजार साल तक का समय लग सकता है! हमें इसे संरक्षित करने पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि यह हमारे खाद्यान्न सुरक्षा के लिए आवश्यक है”।

किसानों के अलावा, इस कार्यक्रम में बिहार के राज्य मंत्री प्रमोद कुमार और कई स्थानीय विधायक, एमएलसी शामिल थें। "कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को नवीनतम कृषि तकनीकों के बारे में जानकारी दी", अजय सिंह ने कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Facebook

Twitter