आरएनएसबी ने किया कमाल, 113 करोड़ का लाभ कमाया

गुजरात स्थित राजकोट नागरिक सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष और बोर्ड के सदस्य ज्योतिंद्रभाई मेहता ने दावा किया कि बैंक ने वित्त वर्ष 2017-18 में 113 करोड़ रुपये का लाभ कमाकर इतिहास रच दिया है।

“पिछले वित्त वर्ष 2016-17 में हमने 85 करोड़ का लाभ कमाया था लेकिन 2017-18 वित्त वर्ष के दौरान हमने 100 करोड़ रुपये के आंकड़े को छुया है। यह शहरी सहकारी बैंक से जुड़े लोगों द्वारा सामूहिक प्रयासों का परिणाम है”, मेहता ने रेखांकित किया।

इस परिणाम को प्राप्त करने में अपनी व्यापार रणनीति के बारे में बताते हुए मेहता ने कहा कि “बड़े व्यवसाय और बड़ी कंपनियों की तुलना में बैंक माइक्रो-फाइनेंस और छोटे ऋण पर अधिक ध्यान केंद्रित करती रही है और यही कारण है हमें अभूतपूर्व परिणाम मिले हैं, उन्होंने कहा।

मेहता ने कहा कि राजकोट नागरिक सहकारी बैंक की पंच लाइन “बिग बैंक फॉर स्माल पीपल” है। स्माल पीपल हमारी ताकत है। इस संबंध में उन्होंने आरएनएसबी की एक योजना का भी उल्लेख किया जिसमें अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से किस्तों का भुगतान करता है तो उसे 50 हजार रुपये तक के ऋण पर ब्याज की छूट दी जाती है ।

“ऋणदाता से अंतिम किस्त लेने के बाद बैंक उसे उसका ब्याज वापस करती है”, मेहता ने कहा।  इस योजना का फायदा कई लोग उठा रहे हैं जिससे एक ओर बैंक का व्यावसाय बढ़ रहा है और दूसरी ओर इसके कारण हजारों की संख्या में नये ग्राहक बैंक के साथ जुड़ रहे हैं।

“हमारा अगला लक्ष्य बैंक के एनपीए को शून्य बनाना है। वर्तमान में, राजकोट नागरिक सहकारी बैंक का सकल एनपीए 6.4 प्रतिशत है और शुद्ध एनपीए 2.4 प्रतिशत है। हम इसे शून्य पर लाने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे, मेहता जिन्हें सहकारी क्षेत्र में एक सम्मानित नेता और ईमानदार व्यक्ति के रूप में जाने जाते हैं, ने कहा।

बड़े व्यापारिक घरानों को ऋण देने के सवाल पर मेहता ने कहा कि इसमें कोई प्रतिबंध नहीं है लेकिन हम सतर्क रहते हैं और फूंक फूंक कर अनुशासित सिपाही की तरह इस क्षेत्र में अपना कदम बढ़ाते हैं।

पाठकों को याद दिला दें कि मेहता सहकार भारती के अध्यक्ष है और वे सहकारी संस्थाओं की शीर्ष संस्था एनसीयूआई की बोर्ड पर भी है लेकिन राजकोट नागरिक सहकारी बैंक उनका अड्डा है और उन्होंने इसे खून-पसीने से सींचा है।

जब इस संवाददाता ने पिछले साल बैंक का दौरा किया था तो वह बिल्डिंग को नवीनतम तकनीकों से लैस देखकर आश्चर्यचकित हो गया था।

बैंक पूर्ण रूप से सीसीटीवी की निगरानी में है। बैंक की बिल्डिंग पर्यावरण के अनुकूल है और मेहता इसे एक ऊर्जा कुशल हरे रंग की इमारत कहते हैं क्योंकि इमारत में प्रकाश प्रणाली ऐसी है जो सेंसर के साथ काम करती है।

राजकोट नागरिक सहकारी बैंक ने सहकार भारती के संस्थापक अध्यक्ष लक्ष्मणराव इनामदार के नाम पर एक प्रशिक्षण केंद्र सभागार का निर्माण भी किया है जहां लगभग 350 लोगों के बैठने की व्यवस्था है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Facebook

Twitter