मंत्री ने यूरिया की कालाबाजारी रोकने में बिस्कोमॉन की सराहना की

बिहार में भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए बिस्कोमॉन अध्यक्ष की सलाह को सकारात्मक ढंग से लेते हुए राज्य के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह ने न केवल पटना में आयोजित बिस्कोमॉन की 30 वार्षिक आम बैठक में भाग लिया बल्कि किसानों के हित में इसके द्वारा किए जा रहे काम की प्रशंसा भी की। 

बिहार के सहकारिता मंत्री राण रणधीर सिंह ने कहा कि, "बिस्कोमॉन ने यूरिया की कीमत को स्थिर कर एक तरह से उचित मुल्य के युग की शुरुआत की है। आज बिस्कोमॉन की वजह से ही राज्य में यूरिया की कालाबाजारी करने वाले लोग दूसरे राज्यों में जाने को मजबूर हुए हैं", सिंह ने प्रशंसा के स्वर में कहा।

किसानों और सहकारी नेताओं को संबोधित करते हुए राणा ने इफको को भी बिस्कोमॉन पर विश्वास रखने के लिए धन्यवाद दिया। विपणन सहकारी संस्था किसानों को उचित मूल्य पर यूरिया की आपूर्ति कराने में सराहनीय काम कर रही है, उन्होंने कहा।

"बिस्कोमान अपने सीमित संसाधनों के बावजूद अपने कर्मियों को 1 तारीख को तनख्वाह बांट रही है जो काबिले तारीफ है। साथ ही साथ यह जानकर बहुत खुशी हुई कि बिस्कोमॉन उपभोक्ता सामग्री जैसे सरसों का तेल, रिफाईन, शहद, चावल, मुहैया कराने के लिए मॉल का निर्माण करने जा रही है", राणा ने कहा।

बिस्कोमान के अध्यक्ष डाॅ॰ सुनील सिंह ने अपने अध्यक्षीय भाषण में बताया कि गत् वित्तीय वर्ष में बिस्कोमॉन द्वारा राज्य के किसानों के बीच में निर्धारित मूल्य पर 225 करोड़ रुपये का उर्वरक की खुदरा बिक्री की गई और चालू वर्ष 2018-2019 में इफको के सहयोग से बिस्कोमान अपने 155 कृषक सेवा केन्द्रों के माध्यम से 400 करोड़ रुपये की उर्वरक की खुदरा बिक्री का लक्ष्य रखा है।

सिंह ने कहा कि इसी अगस्त माह में बिस्कोमॉन द्वारा कुल 50 करोड़ रुपये की उर्वरक की खुदरा बिक्री किसानों के बीच की गई जो अपने-आप में एक कीर्तिमान हैं। बिस्कोमॉन राज्य के किसानों को मात्र 265 रुपये में नीम कोटेड यूरिया मुहैया करा रही है। साथ ही बिस्कोमॉन की किसी भी कृषक सेवा केन्द्र से अगर निर्धारित मूल्य से 1 रुपये भी ज्यादा लिया जाता है इसकी सूचना देने वालों को 2000 रुपये का पुरस्कार देने का निर्णय लिया गया है। इसके कारण बाजार में खाद की कालाबाजारी पर काफी हद तक अंकुश लगाने में बिस्कोमॉन सफल हो पाया है।

सिंह ने सूचित किया कि बिस्कोमान की आगामी योजना इसी वर्ष देवघर एवं फाॅरबिसगंज के भू-खण्ड पर पी॰पी॰पी॰ मोड में माॅल का निर्माण करने का है। सहकारी संस्था उपभोक्ता सामग्री जैसे कि सरसों का तेल, रिफाईन, बासमती चावल, शहद के अतिरिक्त आटा, बेसन सतु एवं आचार आदि बिक्री करने की योजना बना रही है। साथ ही दिल्ली में 24 कमरों का अतिथिशाला का निर्माण तीनों शीर्ष सहकारी संस्थाओं के सहयोग से प्रारंभ किया गया है, सिंह ने जानकारी दी।

इफको के राष्ट्रीय विपणन निदेशक, योगेन्द्र कुमार जो इस सभा में अतिथि थे, ने बताया कि बिस्कोमॉन द्वारा पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा के साथ किसानों के बीच में उर्वरक की बिक्री की जा रही है जिसके कारण इस राज्य के किसानों के चेहरे पर मुस्कान लौटी है।

बिस्कोमॉन द्वारा इस राज्य के किसानों के हित में निष्ठापूर्ण किये जा रहे कार्य को देखते हुए इफको द्वारा बिस्कोमॉन को गोदाम मरम्मती हेतु 2 करोड़ रुपये अनुदान के रूप में दिया गया है। साथ ही साथ बिस्कोमॉन के सभी कृषक केन्द्र को डिजिटीलाईज करने हेतु 100 लैपटाॅप एवं अन्य उपस्कर अनुदान के रूप में भी दिया गया है, कुमार ने बताया। 

इस अवसर पर बिहार स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष, रमेश चन्द्र चैबे, भूमि विकास बैंक के अध्यक्ष विजय सिंह, बिहार स्टेट को-ऑपरेटिव फेडरेशन के अध्यक्ष, विनय कुमार शाही, एवं इसके अतिरिक्त सत्येन्द्र नारायण सिंह, अमर पाण्डेय, डाॅ॰ अजय कुमार सिंह, राम कलेवर प्रसाद सिंह आदि मौजूद थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Facebook

Twitter