3 साल में एनसीडीसी ने नहीं पास किया एक भी परियोजना

महाराष्ट्र के लगभग सभी सहकारी नेताओं को गर्व है कि देश में सबसे अधिक सहकारी संस्थाएं उनके राज्य में है लेकिन केंद्र सरकार द्वारा संचालित एनसीडीसी, मत्स्य सहकारी समितियों की परियोजनाओं को मंजूरी नहीं देती है।

सरीता विहार स्थित मत्स्य सहकारी संस्थाओं की शीर्ष संस्था फिशकोफॉड द्वारा हाल ही में आयोजित एक संगोष्ठी में यह सामने आया कि दिल्ली स्थित एनसीडीसी अपने नेक इरादों के बावजूद मछुआरों को आर्थिक मदद देने में विफल रही है।

गरीब मछुआरें राज्य सरकार और एनसीडीसी के बीच महज शटलकॉक बनकर रहे गए हैं, बैठक में मत्स्य सहकारी समितियों से जुड़े प्रतिनिधियों की यह आम राय रही थी।

संगोष्ठी का विषय “नीली क्रांति के माध्यम से मत्स्य सहकारी संस्थाओं को सशक्त बनाना” था और इस मौके पर एनसीडीसी के प्रतिनिधि ने एक प्रस्तुति भी पेश की।

प्रस्तुति के तुरंत बाद महाराष्ट्र से आए प्रतिनिधियों में से एक ने पूछा कि क्यों पिछले तीन सालों से राज्य की मत्स्य सहकारी समितियों की एक भी परियोजना को पारित नहीं किया गया है जबकि एनसीडीसी के प्रतिनिधि ने बड़ी बेबाकी से इसके लिए राज्य सरकार को दोषी ठहराया।

एनसीडीसी का फंडिंग नियम बहुत कठिन है और वह किसी व्यक्ति को ऋण तभी दे सकती है जब राज्य सरकार उसकी गारंटी ले। क्यों राज्य सरकार गरीब मछुआरों के लिए चिंतित है, सम्मेलन में प्रतिनिधियों ने पूछा। “राज्य के नेता हमें कहते रहते हैं कि हम आपकी मदद करने के लिए उत्सुक है लेकिन एनसीडीसी मदद करने के लिए आगे नहीं आती”, महाराष्ट्र के एक प्रतिनिधि ने कहा।

एनसीडीसी उन मामलों में सीधे ऋण दे सकती है जहां सहकारी संस्था ने लगातार तीन वर्षों से लाभ आर्जित किया हो। “अगर हम लाभ में हैं तो हमें ऋण की क्यों आवश्यकता है?”, एक प्रतिनिधि ने पूछा।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Twitter