ताजा खबरेंविशेष

आरबीआई ने तीन यूसीबी की निकासी सीमा बढ़ाई

एक तरफ सारस्वत बैंक ने फोर्ब्स सर्वे में सहकारी बैंकिंग क्षेत्र का नाम रोशन किया था वहीं दूसरी तरफ आरबीआई ने कई संकटग्रस्त शहरी सहकारी बैंकों के खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा बढ़ाई है।

इन संकटग्रस्त सहकारी बैंकों के जमकर्ताओं के लिये पिछले शुक्रवार का दिन काफी शुभ था क्योंकि आरबीआई ने पीएमसी बैंक के अलावा चार और सहकारी बैंकों के खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा बढ़ाई है।

महाराष्ट्र के कोल्हापुर स्थित यूथ डेवलपमेंट कोऑपरेटिव बैंक के जमाकर्ताओं के लिये अच्छी खबर है, जो 05 जनवरी, 2019 से आरबीआई के दिशा-निर्देशों के अधीन है।

आरबीआई की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, बैंक की तरलता की स्थिति और जमाकर्ताओं को भुगतान करने की उसकी क्षमता की समीक्षा के बादप्रति जमाकर्ता के लिए निकासी की सीमा को बढ़ाकर 20,000/- रुपये (केवल बीस हजार रुपये) करने का निर्णय लिया गया हैजिसमें 5000/- रुपये भी शामिल हैं, जिसकी पहले अनुमति दी गई थी। उपरोक्त छूट के साथबैंक के 76% से अधिक जमाकर्ता अपने खाते की पूरी शेष राशि को वापस लेने में सक्षम होंगे”, उन्होंने कहा।

इसी तरह, “हिंदू कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड”पठानकोटजो 25 मार्च, 2019 से दिशा-निर्देश के तहत हैको भी खबर मिली कि आरबीआई ने रु.50,000/- (केवल पचास हजार) की निकासी की सीमा बढ़ा दी हैजिसमें 25000/- रुपये भी शामिल हैं, जिसकी पहले अनुमति दी गई थी। उपरोक्त छूट के साथबैंक के 79% से अधिक जमाकर्ता अपने खाते की पूरी शेष राशि निकाल सकेंगे।

“श्री गुरु राघवेंद्र सहकार बैंक नियमित”बेंगलुरु अन्य यूसीबी है, जिसे आरबीआई ने राहत दी है। यह बैंक 10 जनवरी, 2020 से निर्देश के तहत है। मौजूदा निर्देशों के तहत इसके प्रति जमाकर्ता की निकासी सीमा 35,000/- रुपये है।

बैंक की तरलता की स्थिति और जमाकर्ताओं को भुगतान करने की उसकी क्षमता की समीक्षा करने के बादप्रति जमाकर्ता की निकासी की सीमा को बढ़ाकर 1,00,000/- (केवल एक लाख रुपये) करने का निर्णय लिया गया हैजिसमें 35000/- रुपये भी शामिल हैं, जिसकी पहले अनुमति दी गई थी”, प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close