ताजा खबरेंविशेष

जेएससीबी: बर्खास्त सीईओ ने अधिकारियों पर षड्यंत्र रचने का लगाया आरोप

“झारखंड: राज्य सहकारी बैंक के सीईओ बर्खास्त” शीर्षक से “भारतीय सहकारिता” में 9 मई को प्रकाशित एक खबर के मद्देनजर, झारखंड राज्य सहकारी बैंक (जेएससीबी) के अध्यक्ष अभय कांत प्रसाद ने बर्खास्त सीईओ विजय कुमार चौधरी के बचाव में अपना बयान दिया।

प्रसाद ने कहा, “पिछले साल बोर्ड की सहमति से हमने नाबार्ड से एक अधिकारी को तात्कालिक रूप से सीईओ पद के लिये देने को कहा था। हमारी मांग को पूरा करते हुए नाबार्ड ने अपने एक अधिकारी को एक साल के लिए बैंक में डिप्यूटेशन पर भेजा था। सीईओ का कार्यकाल इसी महीने खत्म हो रहा है। बर्खास्त सीईओ को सीधे बैंक द्वारा नियुक्त नहीं किया गया था, बल्कि वह बैंक में डिप्यूटेशन पर आए थे”।

उन्होंने सीईओ का बचाव करते हुए कहा, “हमने किसी भी ऐसे व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया है जो सेवानिवृत्त हो या मेरे किसी सदस्य का रिश्तेदार हो। चौधरी प्रतिनियुक्ति पर हैं। यह कहना गलत है कि उन्हें बैंक में सीईओ के रूप में अवैध रूप से नियुक्त किया गया था। उन्हें नाबार्ड द्वारा निर्धारित मानदंडों पर नियुक्त किया गया था”, उन्होंने दावा किया।

जेएससीबी के अध्यक्ष ने कहा कि अब बैंक नियमित सीईओ को नियुक्त करने के लिए एक विज्ञापन जारी करने की योजना बन रहा है।

बैंक से अधिक वेतन लेने के मुद्दे पर, प्रसाद ने कहा कि उनका वेतन नाबार्ड द्वारा तय किया गया था, जो राज्य सहकारी बैंक के लिए निगरानी प्राधिकरण है, लेकिन कुछ निहित स्वार्थ बैंक की छवि को धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं।

इस बीच, बर्खास्त सीईओ ने भारी वेतन पाने के आरोपों का खंडन किया है और इसे उन्हें पद से हटाने के लिए राज्य सहकारी पंजीयक का पूर्व नियोजित निर्णय बताया है। बैंक में सीईओ के रूप में नियुक्त होने से पहले, वह नाबार्ड के रांची कार्यालय में सहायक महाप्रबंधक थे।

जेएससीबी के सीईओ विजय कुमार चौधरी ने सभी आरोपों से इनकार करते हुए कहा, “यह गलत कहा गया है कि मैंने बैंक से अधिक वेतन लिया है। सबसे पहले, मैं सीधे बैंक से नहीं, बल्कि नाबार्ड से वेतन प्राप्त करता था। मेरा कुल वेतन करीब 2.40 लाख रुपये है। नाबार्ड जीएसटी सहित वेतन का भुगतान करता था जो न तो मेरा पैसा है और न ही नाबार्ड का”, उन्होंने फोन पर इस संवाददाता को सूचित किया।

राज्य के रजिस्ट्रार कार्यालय के अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए, चौधरी ने कहा, “2017 में, सहकारिता विभाग और बैंक के कई अधिकारियों ने बैंक की सरायकेला खरसावां शाखा में 4.15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की थी। हमारे पास सीसीटीवी फुटेज है जहां अधिकारी स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं और सीआईडी इस मामले की जांच कर रही है।”

“मुझे उस दिन बर्खास्तगी पत्र की हार्ड कॉपी प्राप्त हुई जिस दिन सीआईडी के लोग मुख्यालय आने वाले थे। राज्य के रजिस्ट्रार ने मुझे जल्दबाजी में बर्खास्त कर दिया क्योंकि वे भयभीत थे ताकि उनके काले कारनामों को छुपाया जा सके”, उन्होंने अधिकारियों पर पूर्व नियोजित तरीके से बर्खास्त करने का आरोप लगाते हुए कहा।

इसके अलावा, चौधरी ने कहा, पिछले साल बैंक ने नाबार्ड से एक अधिकारी को सीईओ का पद देने के लिए कहा था। बाद में, नाबार्ड ने अपने अधिकारियों को उस पद के लिए आवेदन करने के लिए कहा जहां मैं एकमात्र उम्मीदवार था क्योंकि मुझे इसकी जानकारी थी।और मुझे निर्धारित मानदंडों पर नियुक्त किया गया था, चौधरी ने कहा।

इस बीच, उनके कई सहयोगियों ने बैंक को पटरी पर लाने में चौधरी के प्रयासों की सराहना की। ‘भारतीयसहकारिता’ से बात करते हुए उन्होंने कहा, वह एक ईमानदार व्यक्ति हैं, जिनके कारण बैंक के अधिकारी राज्य के रजिस्ट्रार अधिकारियों की मिलीभगत से कोई घोटाला नहीं कर पाते हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close