दुर्लभ उपलब्धि: वराछा को-ऑप बैंक ने शून्य एनपीए प्राप्त किया

वित्तीय वर्ष की समाप्ति पर तैयार रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात स्थित वराछा को-ऑप बैंक ने "0" सकल एनपीए बैंक होने का दुर्लभ खिताब हासिल किया है। इसने डिपोजिट में 10% की वृद्धि और कुल कारोबार में 21% से अधिक की वृद्धि दर्ज की है, बैंक के अध्यक्ष कनजीभाई आर भालाला ने दावा किया।

भालाला ने कहा कि यह संपूर्ण सहकारी बैंकिंग क्षेत्र में वराछा को-ऑप बैंक के लिए एक दुर्लभ उपलब्धि है। भालाला का मानना है कि यह वृद्धि बैंक पर जनता के न डिगनेवाले विश्वास का नतीजा है। 1995 में बैंकिंग परिचालन शुरू करने के बाद, बैंक की आज 23 शाखाएं हैं और आज ये राज्य के शीर्ष 10 सहकारी बैंकों में से एक बन गया है।

प्रौद्योगिकीय मोर्चे पर प्रशंसनीय प्रगति हुई है क्योंकि डिजिटल बैंकिंग के जरिये 4 लाख से अधिक ग्राहक त्वरित और कुशल सेवा प्राप्त कर रहे हैं, उन्होंने कहा।

वराछा को-ऑप बैंक के महाप्रबंधक विठ्ठलभाई धनानी ने बताया कि बैंक न केवल लाभ को अधिकतम करने में सक्रिय है बल्कि ग्राहकों के प्रति अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को भी निभाती है। खाताधारक दुर्घटना बीमा कवरेज प्राप्त कर रहे हैं, उन्होंने कहा।

अपनी उपलब्धियों को सूचीबद्ध करते हुए जीएम धनानी ने कहा कि प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में 72 हजार से अधिक ग्राहक शामिल किए गए हैं और लगभग 85 हजार लोग प्रधान मंत्री जीवन सुरक्षा बीमा योजना के अंतर्गत शामिल हैं। "इन्हें प्राप्त करके, वराछा को-ऑप बैंक ने पश्चिम ज़ोन में अन्य सभी यूसीबी को पीछे छोड़ दिया है, उन्होंने दावा किया।

बैंक पूरी तरह से डाटा सेंटर से लैस है लाखों ग्राहक ऑनलाइन लेनदेन के लिए बैंक के डेबिट कार्ड का उपयोग कर रहे हैं। उन्होंने इस संबंध में भवनभाई बी नवपारा, प्रबंध निदेशक और ईडीपी विभाग द्वारा निभाई जाने वाली भूमिका को सराहा।

वराछा बैंक निकट भविष्य में अनुसूचित बैंक की स्थिति पाने की उम्मीद कर रहा है, जिसके लिए काफी पहले से प्रयास चल रहा है। वराच्छा बैंक गुजरात राज्य में 225 सहकारी बैंकों में 8 वें और सूरत में तीसरे स्थान पर है, भालाला ने दावा किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Twitter