हम 31 दिसंबर का इंतजार कर रहे हैं: यूएलसीसी एमडी

ऊरनेगुल श्रम निर्माण सहकारी संस्था (यूएलसीसी) ने विमुद्रीकरण के चलते अपनी गतिविधियों में लगभग 20 प्रतिशत गिरावट दर्ज की है, संस्था के प्रबंध निदेशक एस साजू ने सूचित किया। यूएलसीसी का उत्तर भारत में इतना नाम नहीं है लेकिन दक्षिण भारत में एक ब्रांड के रूप में उभरी है।

विमुद्रीकरण के कारण 50 हजार रुपये प्रति सप्ताह से ही काम चलाने को मजबूर हैं। यूएलसीसी ने श्रमिकों के बैंकों में खातों खुलवाए, साजू ने कहा श्रमिकों को मजदूरी देना हमारे लिए बड़ी चुनौती थी जैसा की 5,000 से अधिक श्रमिक यूएलसीसी से जुड़े हुए हैं।

जैसे ज्यादातर खाते सहकारी बैंकों में है जो खुद विमुद्रीकरण के चलते समस्या में है, एमडी ने कहा। सरकार को सहकारी समितियों की मदद करनी चाहिए।

हमारी प्रमुख परियोजनाओं पर कोई फर्क नहीं पड़ा। वे ठीक तरह से चल रहे है और हम उन्हें समय पर समाप्त करेंगे, साजू ने आगे कहा। यूएलसीसी सरकारी क्षेत्र में ज्यादातर सड़कों और घरों का निर्माण करती है।

साजू का मानना है कि समय के उपरांत समस्या कम हो सकती है। हम 31 दिसंबर का इंतजार कर रहे हैं। मुझे लगता है कि अगले 2-3 महीने में सब ठीक हो जाएगा।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Twitter