सहकारी कॉफी शॉप: सहयोग की शक्ति

सहकारी आंदोलन राजनीति से प्रेरित था, उत्पादन और खपत के साधनों को स्वैच्छिक निकायों के नियंत्रण में रखना इसका मूल उद्देश्य था। इसका प्रबंधन बाहरी लोगों द्वारा नही होता था।

इन स्वयंसेवी संगठनों के माध्यम से सदस्यों के बीच बेकार प्रतिस्पर्धा को खत्म करना और नियमित अंतराल पर सदस्यों के बीच लाभ का वितरण करना ही सब कुछ था। समानता प्राप्त करने के लिए जीवन के बारे में एक समतावादी दृष्टिकोण को प्रोत्साहित किया गया।

सहकारी आंदोलन पूरी तरह से एक अनूठा प्रयोग है। यह न तो निजी संपत्ति पर आधारित है और न ही पूंजी और श्रम के बीच विभाजन पर। हालांकि, मार्क्सवादी लोगों ने अवहेलनापूर्वक इससे एक असंभव विचार के रूप में  खारिज कर दिया था। उनकी राय में, आम स्वामित्व केवल एक दिखावा है जो कभी भी एक वास्तविकता नही हो सकती है।

आंदोलन वास्तव में पश्चिम में 1844 में शुरू हुआ था और 19 वीं सदी में कम विकसित पूंजीवाद के ढांचे के भीतर विचारों को साकार करने का प्रयास किया गया था, आंदोलन के प्रारंभिक चरण में कुछ प्रगति हुई, लेकिन जल्द ही स्थिरता आ गई थी।

जबकि इंग्लैंड में यह एक अचल संपत्ति के कारोबार के रुप में सिमटकर रह गया है, यूरोप दूसरे इलाकों में एक सीमित वस्तु उत्पादन में बदल गया। यह अफ़सोस की बात है कि गहरी प्रशंसा के लक्ष्य के रुप में शुरू हुआ आंदोलन अब वर्तमान पूंजीवादी व्यवस्था का एक तुच्छ भाग के रूप में देखा जाता है।

इसराइली कीबुत्स अक्सर सहकारिता आंदोलन के माध्यम से क्या प्राप्त किया जा सकता है उसके एक महान उदाहरण के रूप में उद्धृत किया जाता है। कीबुत्स एक सहकारी कृषि इकाई है जो अपने आंतरिक संगठन में समाजवादी और समतावादी माना जाता है। कीबुत्स, सामूहिक जीवन जीने का एक उत्सव है, लेकिन समयोपरि इसराइल के विशेष भू-राजनीतिक आवश्यकताओं की वजह से कीबुत्स इजरायल के ग्रामीण इलाकों में सैन्य उपस्थिति को बनाए रखने के एक साधन के रूप में परिवर्तित कर दिया गया।

इस प्रकार सहकारी आंदोलन पर एक सरसरी नजर डालने से भी लगता है कि आंदोलन खत्म हो गया है और विश्व अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने की क्षमता दोबारा उसमें आ नही सकती।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Twitter