नेफेड: अफसरों की उदासीनता का शिकार?

दालों और तिलहनों की खरीद पर नेफेड को शानदार लाभ की खबरों के बीच भी कृषि संस्था के बेलआउट पैकेज पर अभी तक कोई अच्छी खबर नहीं है। करीब दो महीनें पहले नेफेड के उपाध्यक्ष दिलीपभाई संघानी और एनसीयूआई के उपाध्यक्ष जी.एच.अमीन ने पैकेज की स्थिति जानने के लिए केंद्रीय राज्य मंत्री पुरुषौत्तम रूपाला से दिल्ली में अतिरिक्त सचिव और केंद्रीय रजिस्ट्रार की उपस्थित में मुलाकात की थी।

बैठक में दो उच्च अधिकारियों ने अगले हफ्ते मंत्रिमंडल की मंजूरी का आश्वासन दिया था लेकिन अभी तक कोई खबर नहीं है। समीक्षकों का कहना है कि अगर मोदी पैकेज जारी करने के लिए तैयार भी हैं तो नौकरशाहों के अनुचित तरीके के कारण देरी होती है।

कई सहकारी नेताओं ने कहा कि कैसे 8 सप्ताह बीत गए जब बाबुओं ने मंत्री के सामने जल्द से जल्द काम करने का वादा किया था।

इस बीच, एनसीयूआई मुख्यालय में एक अनौपचारिक बातचीत में पिछले हफ्ते चंद्रपाल सिंह यादव ने आशावादी लहजे में बातचीत की।

“इसमें कोई नई बात नहीं है और कई विभागों की मंजूरी मिलने के बाद कैबिनेट में अंतिम मंजूरी के लिए रखा जाना है”, चंद्रपाल ने प्रक्रिया को समझाते हुए कहा।

इस मुद्दे पर चंद्रपाल ने सरकार के सकारात्मक दृष्टिकोण की सराहना की और विशेष रूप से नेफेड के पुनरुत्थान में दो मंत्रियों राधा मोहन सिंह और पुरूषौत्तम रूपाला को धन्यवाद दिया।

कोई एजेंसी नेफेड के नेटवर्क का मुकाबला नहीं कर सकती जब कृषि उत्पाद खरीदने की बात आती है। बड़ी संख्या में किसानों को नेफेड के माध्यम से उनके उत्पादों का अच्छा मूल्य मिलता है, यादव ने कहा।

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Twitter