एफआरडीआई बिल: कॉपरेटरों ने जेपीसी के समक्ष किया अपना मामला पेश

शहरी सहकारी बैंकों की शीर्ष संस्था नेफ्कॉब ने पिछले सप्ताह संसद भवन में एफआरडीआई विधेयक 2017 के मुद्दे पर संयुक्त संसदीय समिति के सदस्यों से मुलाकात की। समिति की अध्यक्षता भूपेन्द्र यादव कर रहे हैं।

नेफ्कॉब के प्रतिनिधिमंडल में ज्योतिंद्रभाई मेहता, कार्यवाहक अध्यक्ष आर.बी.शांडिल्य, उपाध्यक्ष विद्याधर वामनराव अनास्कर, वित्तीय विशेषज्ञ जी कृष्णा और शीर्ष संस्था के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुभाष गुप्ता भी शामिल थे।

भारतीय सहकारिता से बातचीत में ज्योतिंद्र मेहता ने कहा कि जहां तक छोटे शहरी सहकारी बैंकों का संबंध है, हम एफआरडीआई विधेयक का समर्थन नहीं करते हैं, हालांकि यह देश के 54 बड़े बैंकों के लिए ठीक हो सकता है।

यूसीबी बैंकिंग क्षेत्र की सराहना करते हुए मेहता ने कहा कि “वणिज्यिक बैंकों की तुलना में शहरी सहकारी बैंकों का एनपीए सिर्फ 2.4 प्रतिशत है। यूसीबी क्षेत्र में वित्तीय समस्याओं के मामले में हम आरबीआई पर निर्भर रहते हैं। लेकिन छोटे बैंकों की मदद के लिए किसी तरह के पुनरुद्धार तंत्र की जरूरत है, मेहता ने कहा।

प्रतिनिधिमंडल ने जेपीसी के समक्ष एफआरडीआई विधेयक के दूसरे हिस्से जमा बीमा पर भी प्रकाश डाला। वे चाहते थे कि यूसीबी क्षेत्र में बैंक के आकार के आधार पर बीमा राशि की सीमा तय की जानी चाहिए।

नेफ्कॉब टीम ने यूसीबी द्वारा भुगतान की गई प्रीमियम के युक्तिकरण की भी वकालत की। “आज हम अधिक प्रीमियम का भुगतान करते हैं और बीमा राशि कम हो जाती है, इसे उचित बनाने की जल्द से जल्द आवश्यकता है, उन्होंने कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Twitter